Home / Fiction / अच्छा लगता है

अच्छा लगता है

रात की चांदनी में
ख़ामोशी के आग़ोश में
तुम्हारी परछाई को ढूंढ़ना अच्छा लगता है

बातों के बीच बातें काटने में
गुस्से में तुम्हे देख मनाने में
तुम्हारी नाराज़गी में खुद को यु ही पा लेना अच्छा लगता है

माफ़ करना शायर कमज़ोर हूँ मैं
थोड़ा अनजान कवी बेवकूफ हूँ मैं
पर तुम्हारी बातों को याद करना सच्चा लगता है
तुम्हारे लिए अलफ़ाज़ चुनना
फिर उनको यू साथ में बुन लेना अच्छा लगता है

काम के बीच और काम निकाल कर
रोकता हु खुद को कई बार
कभी कभी तुम्हे टोक कर
खुद को फिर और टोकता हूँ कई बार
पर यु बेवजह वजह ढूंढ़ना
तुम्हारी छवि हर जगह ढूंढ़ना
खुद को ही खुद से सच्चा लगता है
और फिर कभी रुक कर कभी तुक कर
तुम्हे ये फिर से बता देना अच्छा लगता है

फस्स जाती हो मेरे साथ भीड़ में जब तुम
मुँह बनाती हो जब मेरी ख़राब चाय पीकर जब यूँ तुम
परेशां देखना मुश्किल है तुम्हे यूँ फिर भी
युहीं तुम्हे सताना कभी कभी सच से सच्चा लगता है
तुम्हारे चेहरे पे यूँ ही खफा सी शिकन में
ये हलकी हसीं को पा लेना यूँ पल भर में
मुझे थोड़ा और ही अच्छा लगता है

क्या कहु तुमको जो तुम्हे न पता हो
क्या सोचु ऐसा जो तुम्हे न पता हो
मुझको मेरे से बेहतर जानती हो तुम
ये हकीकत भी तुम्हारा जानना यूँ अजीब सी पहेली लगता है
मेरे दर्द को समझ कर भी अपने दर्द को छुपाना यूँ तुम्हारा भी
अजीब सी पहेली लगता है
पर मुझे तुम्हारा रुला देना
फिर पल में ये ग़म तुम्हारे ही हसीं में भुला देना
खुद के वजूद से सच्चा लगता है

तुमको फिर से ये पता होती हुई सी खबर
अपने ही तरीके से फिर बताने में
जो एहसास ये है तुम्हारा मुझमें मेरा तुम में
यूँ फिर से टूटी सी कविता में बयान कर जाने में
और फिर सोचते हुए की मुस्कुराओगी ज़रूर ये पढ़कर फिर से
ये अधपकी सी शायरी लिख जाने में
मुझे सच में बहोत अच्छा लगता है

माफ़ करना शायर कमज़ोर हूँ मैं
थोड़ा अनजान कवी बेवकूफ हूँ मैं
पर तुम्हारा एहसास यूँ अपने साथ रखना सच्चा लगता है
तुम्हारे लिए अलफ़ाज़ चुनना
फिर उनको यू साथ में बुन लेना अच्छा लगता है

About Utkarsh Kaushik

Take an avid reader, implement the concepts of programming and git init the repository of software engineering. Merge the branches of application development, data science and data modelling to the master. Now push the commits related to product management and project architecture. Pour some love for comics. Finally sprinkle the entrepreneurial and intrapreneurial snippets with some ambitions and attitude. Bake for 20 minutes. Then take another 15 minutes to prepare some espresso with enough steamed milk and milk foam. The resultant delicious and extravagant cake along with superb latte is what you would know as Utkarsh Kaushik! Read more about me @ utkarsh-kaushik.com

Check Also

बेचैन

Share this...FacebookGoogle+TwitterLinkedinA random poem I wrote around my thoughts about the political status in India. …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!